बुधवार, अप्रै 24

  •  
  •  
आप यहाँ हैं:घर संस्थान नियमावली परीक्षा नियम

परीक्षा नियम

  1. संस्थान की परीक्षाएँ प्रतिवर्ष निर्धारित तिथियों पर आगरा में तथा आवश्यकतानुसार मंडल द्वारा निर्धारित अन्य केंद्रों पर होंगी।
  2. सैद्धांतिक तथा प्रायोगिक परीक्षा के लिए पारंगत और प्रवीण, त्रिवर्षीय हिंदी शिक्षक डिप्लोमा में पृथक-पृथक श्रेणियाँ प्रदान की जाती हैं। उत्तीर्णता के लिए छात्रों को कुल योग का 40 प्रतिशत लाना अनिवार्य है। प्रश्न-पत्र विशेष में उत्तीर्णता के लिए न्यूनतम 35 प्रतिशत अंक प्राप्त करने होंगे।
  3. वर्ष 2008-09 से पुनरीक्षण (Review) की सुविधा भी प्रदान की जा रही है। परीक्षा परिणाम की घोषणा होने की तिथि से एक माह के अंदर किसी भी एक प्रश्न-पत्र का पुनरीक्षण कराया जा सकता है। इसके लिए रु. 200/- शुल्क के रूप में जमा करवाने होंगे।
  4. वार्षिक परीक्षा में किन्हीं दो विषयों में अनुत्तीर्ण होने वाले छात्रों की पूरक परीक्षा मुख्य परीक्षा परिणाम घोषित होने की तिथि के बाद तीन माह के अंदर करवाई जाएगी। इस पूरक परीक्षा के लिए शुल्क के रूप में कुल रु. 550/- मूल परीक्षा परिणाम निकलने की तिथि से दो महीने के भीतर जमा करवाने होंगे। पूरक परीक्षा में बैठने के लिए केवल एक ही अवसर प्रदान किया जाएगा।
  5. परीक्षा परिणाम सुधार के लिए कोई भी छात्र अधिकतम दो प्रश्न-पत्रें में पुनर्परीक्षा दे सकता है, जो अगले वर्ष की मुख्य परीक्षा के साथ दिए जा सकेंगे। इसके लिए जो रु. 300/- प्रति प्रश्न-पत्र की दर से शुल्क देना होगा।
  6. सभी परीक्षाओं में उत्तीर्णता की निम्नलिखित श्रेणियाँ होंगी

    प्रथम श्रेणी-60 प्रतिशत और अधिक

    द्वितीय श्रेणी-48 प्रतिशत और अधिक

    तृतीय श्रेणी-40 प्रतिशत और अधिक

    यदि कोई प्रशिक्षणार्थी पूर्ण योग में 75 प्रतिशत या अधिक अंक प्राप्त करेगा तो उसके प्रमाण-पत्र में "प्रथम श्रेणी विशेष योग्यता सहित" का उल्लेख किया जाएगा।
  7. प्रशिक्षणार्थियों को वार्षिक परीक्षा में सम्मिलित होने के लिए परीक्षा आवेदन-पत्र भरकर 30 नवंबर तक परीक्षा विभाग में जमा कराना होगा। परीक्षा आवेदन-पत्र के साथ 650 रु. का बैंक ड्राफ्ट, "सचिव, केंद्रीय हिंदी शिक्षण मंडल, आगरा" के नाम से बनवा कर जमा करें अथवा लेखा विभाग में नकद जमा करके रसीद प्राप्त करें और परीक्षा आवेदन-पत्र के साथ संलग्न करें।
  8. 30 नवंबर तक परीक्षा आवेदन-पत्र जमा न कर पाने वाले छात्र विलंब शुल्क रु. 50/- सहित 15 दिसंबर तक अपना परीक्षा आवेदन-पत्र जमा कर सकते हैं। 15 दिसंबर के बाद परीक्षा आवेदन-पत्र स्वीकार नहीं किए जाएँगे।
  9. परीक्षा आवेदन-पत्र खोने/खराब होने की स्थिति में दूसरा आवेदन-पत्र रु. 50/- जमा करने के पश्चात ही मिल सकेगा।
  10. पूरक परीक्षा में बैठने के लिए छात्रों को परीक्षा नियंत्रक, केंद्रीय हिंदी संस्थान (शैक्षिक एवं परीक्षा विभाग), आगरा से परीक्षा आवेदन-पत्र मँगाना होगा। परीक्षा आवेदन-पत्र मँगाने और निर्धारित तिथि तक भरकर भेजने की जिम्मेदारी छात्र की होगी। आवेदन-पत्र मँगाने के लिए भेजे जाने वाले प्रार्थना-पत्र के साथ अपना नाम, पता लिखा 23 15 से. मी. का लिफाफा (जिस पर रु. 50/- का डाक टिकट लगा हो) भेजना होगा।
  11. वार्षिक परीक्षा संबंधी अभिलेख (रिकार्ड) तीन वर्ष तक ही सुरक्षित रखे जाते हैं, तदनंतर उन्हें नष्ट कर दिया जाता है।
  12. वार्षिक परीक्षा का आयोजन परीक्षा विभाग द्वारा किया जाएगा, आंतरिक परीक्षाएँ विभागीय स्तर पर आयोजित की जाएँगी।
  13. वार्षिक परीक्षा परिणाम संबंधी त्रुटियों का निराकरण परिणाम घोषित होने के तीन माह के अंदर किया जाएगा।
  14. यदि कोई परीक्षार्थी परीक्षा आवेदन-पत्र भरने के बाद चिकित्सकीय कारणों से परीक्षा में शामिल नहीं हो पाता और तत्काल इसकी सूचना संस्थान को देता है तो उसे अगली परीक्षा के लिए नए सिरे से आवेदन-पत्र भरने की अनुमति दी जाएगी। यह अनुमति बाद के वर्षों के लिए लागू नहीं होगी। ध्यान देने वाली बात यह है कि चिकित्सकीय आधार पर केवल एक ही अवसर दिया जाएगा।
  15. यदि कोई छात्र परीक्षा में नकल करता पकड़ा/पाया जाता है तो उसकी पूरी परीक्षा निदेशक द्वारा गठित अनुशासन समिति द्वारा निरस्त की जा सकती है और अनुशासन समिति द्वारा लिए गए निर्णय को किसी भी स्तर पर चुनौती नहीं दी जा सकेगी।
  16. द्वितीय प्रविधि (कन्नड़/उडि़या) की सैद्धांतिक एवं प्रायोगिक परीक्षाओं के अंक अंकतालिका में पूरी परीक्षा श्रेणी निर्धारण में सम्मिलित नहीं किए जायेंगे, अलग से दर्शाये जायेंगे।