शनिवार, जुल 20

  •  
  •  

ब्रजमोहन बख़्शी

brajmohan-bakshi

ब्रजमोहन बख़्शी देश के उन अत्यल्प लब्धप्रतिष्ठ टेलीविजन विशेषज्ञों में से एक हैं, जिन्होंने दूरदर्शन के बहाने इलेक्ट्रॉनिक माध्यम के प्रसार में अपनी महत्वपूर्ण भूमिका का निर्वहन किया। जनहित में 'न्यायमंच', 'मेरी बात', 'कृषि दर्शन', 'आज सबेरे' और स्वास्थ्य चेतना जागृति हेतु 'यूथ शो' जैसे कार्यक्रमों को नया स्वरूप देकर उन्होंने नई पीढ़ी में जागरुकता और आत्मविश्वास पैदा करने की सराहनीय कोशिश की है।

Hindi-sevi-samman-5

योगदान

श्री बख़्शी ने नक्सल प्रभावित क्षेत्रों में जाकर सीआईएसएफ़ पर कार्यक्रम बनाने के साथ-साथ पूर्वोत्तर राज्यों में 'एफ़एम रेडियो' के माध्यम से हिंदी सिनेमा गीतों का प्रसारण कर उन्हें देश की मुख्यधारा से आत्मीयता के संग जोड़ने का कार्य अपूर्व दूरदर्शिता के साथ किया। दूरदर्शन में उपनिदेशक (कार्यक्रम) के पद पर कार्यरत ब्रजमोहन बख़्शी दर्शकों में सूचना और ज्ञान के संवर्धन के साथ-साथ टेलीविजन कार्यक्रमों को एक नए सृजनात्मक सौंदर्य-बोध और प्रबंध-कौशल से समृद्ध कर रहे हैं।

पुरस्कार

'केंद्रीय हिंदी संस्थान' ने ब्रजमोहन बख़्शी को 'गणेश शंकर विद्यार्थी पुरस्कार' से पुरस्कृत किया है और गौरवमयी अनुभूति प्राप्त की है।