गुरुवार, जुल 09

  •  
  •  

मधुर भंडारकर

Madhur-Bhandarkar-2

मधुर भंडारकर भारतीय हिन्दी सिनेमा का एक जाना पहचाना नाम है। इन्हें कई राष्ट्रीय पुरस्कारों आदि से सम्मानित किया जा चुका है। मधुर भंडारकर का जन्म अगस्त, 1968 ई. में हुआ था। राष्ट्रीय पुरस्कारों से सम्मानित भारतीय फ़िल्म निर्देशक तथा निर्माता एवं फ़िल्म पटकथा लेखक श्री मधुर भंडारकर को अपने अति संवेदनशील एवं यथार्थवादी सिनेमा निर्माण के लिए पूरे देश में एक नई पहचान मिली है।

सफल फ़िल्म निर्माता

दर्शकों एवं सृजनशील समीक्षकों द्वारा मधुर भंडारकर की फ़िल्में न केवल बहुचर्चित एवं बहुप्रशंसित हुई हैं, बल्कि इन्हें बॉक्स ऑफ़िस पर भी अपार सफलता मिली है। 'चाँदनी बार' (2001), 'पेज-3' (2005), 'ट्रैफ़िक सिग्नल' (2007) और 'फ़ैशन' (2008) आदि फ़िल्मों को राष्ट्रीय एवं अंतरराष्ट्रीय स्तर पर काफ़ी ख्याति प्राप्त हुई है और इन्हें सराहा गया है।

Hindi-sevi-samman-11

अंतरराष्ट्रीय सम्मान

श्री भंडारकर को हॉलीवुड फ़िल्म निर्माता क्वेंटिन टैरेटिनों के समकक्ष अंतरराष्ट्रीय सम्मान भी मिला है। मधुर भंडारकर को 'भारत का क्वेंटिन टैरेटिनों' (प्रसिद्ध हॉलीवुड फ़िल्म निर्माता) भी कहा जाता है।

पुरस्कार

भारतीय सिनेमा के क्षेत्र में अपने विशिष्ट योगदान के लिए रूस एवं मिस्र के सांस्कृतिक मंत्रालय से मधुर भंडारकर को विशिष्ट पुरस्कार भी मिला है। श्री भंडारकर को 'केंद्रीय हिंदी संस्थान' द्वारा 'गंगाशरण सिंह पुरस्कार' देकर सम्मानित किया गया है। इस सम्मान को प्रदान करते हुए संस्थान ने स्वयं को गौरवान्वित महसूस किया है।