सोमवार, सित 23

  •  
  •  

तेजेंदर शर्मा

tejendra-sharma

श्री तेजेंदर शर्मा समकालीन हिंदी कथा-साहित्‍य के अग्रणी लेखकों में सम्मिलित हैं। मूलत: पंजाबी भाषी श्री शर्मा के लेखन की माध्‍यम भाषा हिंदी रही है। इनकी कथात्‍मक कृतियों में ‘काला सागर’, ‘ढिबरी टाइट’, ‘बेघर आंखें’, ‘दीवर में रास्‍ता’ और ‘कब्र का मुनाफा’ आदि प्रमुख हैं। कथा साहित्‍य के अलावा आप कविता और ग़ज़ल भी लिखते रहे हैं। श्री तेजेंदर शर्मा का जन्म 21 अक्टूबर, 1952 को हुआ।

कार्यक्षेत्र

तेजेंदर शर्मा की कुछ कहानियाँ प्रमुख भारतीय विश्‍वविद्यालयों के पाठ्यक्रम में भी सम्मिलित हैं। उनके लेखन पर अनेक शोध-कार्य और पत्र-पत्रिकाओं के विशेषांक प्रकाशित हो चुके हैं। दूरदर्शन और कुछ फिल्‍मों से ये लेखक और बतौर अभिनेता जुड़े रहे हैं। बी.बी.सी. लंदन और ऑल इंडिया रेडियो से भी इन्‍होंने कार्यक्रमों की प्रस्‍तुति‍ दी है।

सम्मान एवं पुरस्कार

तेजेंदर जी को उत्‍तर प्रदेश हिंदी संस्‍थान का ‘प्रवासी भारतीय साहित्‍य भूषण सम्‍मान’, हरियाणा और महाराष्‍ट्र राज्‍य की साहित्‍य अकादमी के पुरस्‍कार और भारतीय उच्‍चायोग, लंदन द्वारा ‘डॉ. हरिवंश राय बच्‍चन सम्‍मान’ से विभूषित किया जा चुका है। वरिष्‍ठ कहानीकार श्री तेजेंदर शर्मा को पद्मभूषण डॉ. मो‍टूरि सत्‍यनारायण पुरस्‍कार से सम्‍मानित करते हुए केंद्रीय हिंदी संस्थान हर्ष का अनुभव करता है।

संपर्क

33-A, Spencer Road, Harrow & Wealdstone,

Middlesex HA37AN (United Kingdom)

फोन  –    00-44-7400313433

ई-मेल–    यह ईमेल पता spambots से संरक्षित किया जा रहा है. आप जावास्क्रिप्ट यह देखने के सक्षम होना चाहिए. , यह ईमेल पता spambots से संरक्षित किया जा रहा है. आप जावास्क्रिप्ट यह देखने के सक्षम होना चाहिए.