शनिवार, मई 25

  •  
  •  
आप यहाँ हैं:घर छात्रावास छात्रावास नियम छात्रावास नियम 3

छात्रावास नियम 3

  • कोई भी छात्र अतिथि अथवा परिवार के अन्य सदस्यों को छात्रावास में अपने साथ नहीं रख सकता। अनुरोध पत्र देने पर उपलब्धता के आधार पर वार्डन उनके रहने एवं खाने की अलग से व्यवस्था करेंगे, जिसके लिए निर्धारित शुल्क देना होगा। प्रशिक्षणार्थियों के अभिभावक अधिकतम तीन दिनों तक ही छात्रावास में ठहराए जा सकेंगे।
  • कोई भी प्रशिक्षणार्थी अपने साथ कीमती वस्तु/आभूषण इत्यादि लेकर न आए।
  • प्रत्येक रविवार को तथा राजपत्रित अवकाश के दिन प्रात: 10.00 बजे से सायं 6.00 बजे तक छात्र वार्डन को पूरी सूचना देकर छात्रावास से बाहर जा सकते हैं।
  • गीजर को व्यवहार करने के बाद, स्नानागार एवं शौचालयों के नलों को बंद करना होगा।
  • छात्रों को पाठ्यक्रम की समाप्ति के बाद अधिक से अधिक तीन दिनों तक छात्रावास में रहने की अनुमति दी जाएगी। अति आवश्यक होने पर अधिक दिनों के लिए निदेशक/कुलसचिव से अनुमति प्राप्त करनी होगी जिसके लिए अतिरिक्त भुगतान भी करना होगा। यह सुविधा भी दो अतिरिक्त दिनों से अधिक नहीं मिल पाएगी। सत्रांत के बाद भोजनालय में भोजन की सुविधा उपलब्ध नहीं होगी।
  • आवश्यकतानुसार छात्रावास में निदेशक, मुख्य वार्डन, कुलसचिव, वार्डन किसी भी छात्र/छात्र के कमरे का निरीक्षण किसी भी दिन किसी भी समय कर सकते हैं। छात्रावास में रहने वाले सभी छात्र-छात्रओं को उपर्युक्त सभी नियमों का पालन करना अनिवार्य है। जो विद्यार्थी उपर्युक्त नियमों का पालन नहीं करेगा, उसको संस्थान और छात्रावास से निष्कासित किया जा सकता है।

घोषणा पत्र


मैं श्री / श्रीमती / कुमारी.............................................पुत्र / पुत्री.............................................. घोषणा करता / करती हूँ कि मैंने संस्थान की नियमावली के छात्रावास नियमों को अच्छी तरह से पढ़ लिया है और मैं पूर्ण रूप से आश्वासन देता/देती हूँ कि छात्रावास नियमों का पूर्णतया पालन करूँगा / करूँगी।


दिनांक : .............................

आवेदक के हस्ताक्षर

आवेदक का नाम

आवेदक की कक्षा

विशेष : संस्थान में प्रवेश पाने वाले सभी छात्र-छात्रओं को यह घोषणा पत्र प्रवेश के समय अनिवार्य रूप से भरना होगा।