शनिवार, फरव 16

  •  
  •  
आप यहाँ हैं:घर संस्थान कार्यक्षेत्र एवं कार्यक्रम (पाठ्यक्रम)

कार्यक्षेत्र एवं कार्यक्रम (पाठ्यक्रम)

शिक्षण-प्रशिक्षण एवं नवीकरण

संस्थान में विभिन्न स्तरों के अनेक शिक्षण-प्रशिक्षण एवं नवीकरण पाठ्यक्रमों का संचालन किया जाता है। इन पाठ्यक्रमों को मुख्यत: निम्न वर्गो में विभाजित किया जा सकता है-

प्रशिक्षण परक

विदेशी शिक्षण परक

सांध्यकालीन परास्नातकोत्तर डिप्लोमा पाठ्यक्रम

नवीकरण

  • उच्च नवीकरण पाठ्यक्रम
  • शिक्षक नवीकरण पाठ्यक्रम
  • प्रचारक नवीकरण पाठ्यक्रम
  • भाषा संचेतना विकास शिविर पाठ्यक्रम
  • संवर्धनात्मक पाठ्यक्रम
  • कौशलपरक पाठ्यक्रम
  • प्रयोजनमूलक हिंदी नवीकरण पाठ्यक्रम
  • दक्षतापरक नवीकरण कार्यक्रम

अनुसंधान

  • हिंदी शिक्षण की अधुनातन प्रविधियों का विकास।
  • हिंदी भाषा और साहित्य में मूलभूत और अनप्रयुक्त अनुसंधान।
  • हिंदी भाषा और अन्य भारतीय भाषाओं का व्यतिरेकी और तुलनात्मक अध्ययन।
  • प्रयोजनमूलक हिंदी संबंधी शोध कार्य।
  • हिंदी का समाज भाषावैज्ञानिक सर्वेक्षण और अध्ययन।
  • हिंदी भाषा के आधुनिकीकरण और भाषा-प्रौद्योगिकी के विकास के उद्देश्य से अनुसंधान।

शिक्षण सामग्री और कोश निर्माण

  • विदेशी भाषा के रूप में हिंदी शिक्षण पाठ्यक्रम निर्माण।
  • विश्वविद्यालय स्तरीय प्रयोजनमूलक हिंदी पाठ्यक्रम सामग्री का निर्माण।
  • हिंदीतर भाषी राज्यों, जनजाति क्षेत्रों के लिए हिंदी शिक्षण संबंधी पाठ्यपुस्तक सामग्री का निर्माण।
  • बैंकिंग, प्रशासन आदि प्रयोजनमूलक हिंदी पाठ्यक्रमों के लिए पाठ्य सामग्री का निर्माण।
  • कम्प्यूटर साधित हिंदी भाषा शिक्षण संबंधी पाठ्य सामग्री का निर्माण।
  • दृश्य-श्रव्य माध्यमों से हिंदी शिक्षण संबंधी पाठ्य सामग्री का निर्माण।
  • हिंदी तथा अन्य भारतीय भाषाओं के द्विभाषी कोशों का निर्माण।